रविवार, 22 अप्रैल 2018

माँ सी...





अखराई में इस बार साझा कर रहा अपनी यह कविता माँ सी...                          
                      ~ प्रेम रंजन अनिमेष 


माँ सी  




जन्मदिन है आज मेरा
और जन्म देने वाली नहीं
माँ चली गयी


माँ नहीं
है मासी
बड़ी
और छोटी


मझली मासी को गये
कई बरस हुए


सबसे छोटी
जो सुनते हैं सबसे
सुंदर थी
बह गयी धार में
मेरे जन्म के साल ही


आज सालगिरह मेरी


माँ होती
तो बार बार कहती
फोन लगाने के लिए
बारी बारी
कि दूर से ही सही
आशीर्वाद मिल जाये
सब बड़ों का
सब अपनों का


माँ नहीं
मासी से करता बात
दोनों खूब आशीष वारतीं
पर ध्यान नहीं आता
आज जन्मदिन मेरा


याद आ जाता
तो शायद माँ
इतना न याद आती


माँ सी हैं
माँ होकर
माँ के होने को
नहीं होना
होने देना
नहीं चाहती होंगी


रास्ते में
दिखती जिस पेड़ की
झुकी हुई शाखायें
गुजरता उसके नीचे से
सिर और झुकाये


कि उँगलियों की तरह
अपने पत्तों से
वे सिर मेरा सहला दें...!

                      ~ प्रेम रंजन अनिमेष 







मंगलवार, 27 मार्च 2018

जाना...




आधुनिक हिंदी कविता के प्रकाशस्तंभ कवि केदारनाथ सिंह के जाने के बाद उनके शब्दों पंक्‍तियों और कविताओं की अनुगूँज अब तक घेरे हुए है । मेरा सौभाग्य कि उनका सहज स्नेह मुझे मिला । याद है पहली बार 1991 में उनसे मिलने का सुयोग हुआ था । तब मैं पटना महाविद्यालय का छात्र था और वे रघुवीर सहाय की स्मृति में आयोजित एक कार्यक्रम के लिए वहाँ आये थे । एक सुह़द ने काव्य पाठ के लिए मेरा नाम भी लिखा दिया । मैंने अपनी कवितायें छाताऔर झिनझिनीसुनायीं । समारोह समाप्त होने के बाद संकोची स्वभाव का मैं घर लौटने के लिए निकल चला था कि दौड़ते भागते उसी मित्र ने महाविद्यालय के मुख्य द्वार के पास मुझे पकड़ा और कहा कि केदार जी बुला रहे हैं । लौटकर आया तो उन्होंने पीठ थपथपायी और खूब सराहा मेरी कविताओं को । यह उनकी विशालहृदयता और सच्ची काव्यमर्मज्ञता ही थी कि केवल कविता के लिए एक बच्चे को ढूँढ़कर बुलाकर उससे मिले ।

उसके बाद जब भी उनसे भेंट या फोन पर बातचीत हुई उसी अगाध स्नेह का स्रोत सतत बहता रहा । अपने पहले कविता संग्रह की पांडुलिपि तैयार कर उन्हीं को भेज दी थी । उन्होंने न केवल प्रकाशन संस्थान भेजकर उसका छपना सुनिचित कराया अपितु सहृदयतापूर्वक उसकी भूमिका भी स्वयं लिखी ।

जिन दिनों कोलकाता में पदस्थापित था कविता पाठ के लिए एक कार्यक्रम में वे पहुँचे । उसी दिन क्षमायाचना सहित आयोजनकर्ताओं का फोन आया कि केदार जी चाह रहे हैं यहाँ जो अच्छे कवि हैं उनके साथ काव्य पाठ में अवश्य हों ।  ऐसे ही जुटानों में एकाधि‍क बार बातों बातों में किसी से कहते उन्हें सुना था – इनकरा सामने ना कहींला । बाकी ई नया लोगन में हमरा सबसे बढ़िया कवि लागेलें ! उनकी इस बात से बड़ा किसी नये कवि के लिए और कोई पुरस्कार क्या हो सकता ! भारतभूषण अगवाल पुरस्कार समारोह में हाथ पकड़ कर वे नेमिचंद्र जी से मिलाने ले गये और स्नेहपूर्वक कहा कि पैर छूकर इन्हें प्रणाम करो !

अंतिम भेंट कोई तीन साल पहले हुई थी जब दिल्ली गया था । फोन किया तो बोले कब आ रहे हो मिलने ! ‘जब आपको सहूलियत होऐसा कहा तो मीठी झिड़की दी – ऐसे नहीं । बताओ किस समय आ रहे  हो । उसी हिसाब से तो मैं तैयार होऊँगा । मिले तो आत्मकथा अवश्य लिखने का विनम्र आग्रह किया मैंने । बातों बातों में हँसते हुए कहने लगे - मेरे घर में सुदीर्घ जीवन की परंपरा चली आयी है । उस नाते निश्चिंत हूँ ! काश यह अदम्य विश्वास और जिजीविषा उन्हें कुछ और बरस जिलाये रखती और उनकी स्नेहिल वाणी में उनका स्नेहाशीष उसी तरह मन मानस हृदय और आत्मा को संतृप्त करता रहता  ! हैं तो वे अब भी हम सबके बीच ! ऐसे महाप्राण जाकर भी कब जाते । जैसा स्वयं उन्होंने है कहा – जाऊँगा कहाँ...!

उनकी जानाकविता मशहूर है । संभवत: हिंदी की सबसे यादगार कविताओं में से एक । इसी शीर्षक से एक मेरी भी कविता है । अखराईपर इस बार विनत श्रद्धांजलि स्वरूप साझा कर रहा अपनी वही कविता जाना...  

                         - प्रेम रंजन अनिमेष


 जाना...

µ

जब जाना होगा मुझे
सहसा तेज हो जायेगी मेरी याददाश्त
याद आ जायेगा कुछ
जिसकी खातिर जरूरी होगा जाना


जाना जब होगा
तो कहीं से आकर
घर से लग जायेगा रास्ता
गली में दिख जायेगी कोई सवारी
जो ऐसे कभी नहीं आती


किसी की घड़ी से चुभेंगे काँटे
मैं पूछँगा समय
जो किसी बस या गाड़ी का
हो सकता है


जब जाना होगा मुझे
देर तक नहीं मिलेगा
एक पाँव का जूता
एक बच्चे से होगा ही नहीं प्रणाम
कुछ खूबसूरती से हिलने वाले कोमल हाथ
एकदम से भूल जायेंगे सब कुछ


जाना जब होगा मुझे
ठीक उसी समय
भक्क से आ जायेगी बिजली
घूमने लगेगा पंखा
बिना शोर टपकने लगेगा पानी
रसोई से दौड़ेगी पकते खाने की गंध


लेकिन मुझे तो जाना होगा


साथ रखनी होगी
याद
रास्ते में कोई दवा लेने की
पहुँचकर एक चिट्ठी लिखने की
नहीं भूलने के लिए होगा
खयाल
सेहत और फिर कभी आने का
पर क्या इतना ही भर ?


कुछ ज्यादा तो नहीं
हो जायेगा भार ?  


कितनी देर तो
सामान ही अड़े रहेंगे
और ठहरेंगे जब तक
बढ़ते रहेगे


अंत में पूछेगी वह
कुछ छूट तो नहीं रहा ?


कोई क्या कहेगा
बस देख लेगा
कुछ के बहाने हर किसी को
फिर एक बार


रहे का क्या रहा
अगर लेता गया
सब कुछ साथ


कोई इस तरह जाते
कैसे कह सकता है
पूरे यकीन से


कि कहीं कुछ
छूट नहीं रहा...


                  ~ प्रेम रंजन अनिमेष


रविवार, 25 फ़रवरी 2018

रंगों को याद करते हुए...



             

होली की शुभकामनाओं के साथ
अखराईपर इस बार साझा कर रहा अपनी कविता रंगों को याद करते हुए...  


                         ~ प्रेम रंजन अनिमेष


 रंगों को याद करते हुए...

µ

रंगों से  कितनी  आस  थी  अब  टूटने  लगी
फागुन की  कैसी  प्यास थी  अब  छूटने लगी


आँखों  में  कोई  रंग  अगर  है   तो  इसलिए
दुनिया  गुलाल  झोंक  कर  अब  लूटने  लगी


रिश्ता ये किस तरह का था अपना वफ़ा के साथ
दुल्हन  वो  पहली  रात  से  ही  रूठने  लगी


सपनों के साथ  सच  को  पड़ा  धोना  माँजना
हाथों  से  कितनी  जल्दी   हिना  छूटने  लगी


ऐ प्यार  तेरे  बिन  कभी   जीना  मुहाल  था
अब  धीरे  धीरे  लत  तेरी  भी   छूटने  लगी


दो चार पल  ख़ुशी के  कहीं  मिल भी जो गये
फिर   पीर  आ   कलेजा  वहीं   कूटने  लगी


होता नहीं है  अब तो  किसी सच का  ऐतबार
कुछ ऐसी कर दी दिल से  किसी झूठ ने  लगी


पत्थर बना दिया  कभी जिस दिल को वक़्त ने
कोंपल  नयी   वहाँ  से   अभी   फूटने  लगी


ख़ुद को  हवाले  कर दिया था  आग के  मगर
आकर  बुझा  दी  होंठों के  इक  घूँट ने  लगी


आँखों में  रातें  जागना  अनिमेष आया काम
पहली  किरण  सवेरे  की   अब  फूटने  लगी


  प्रेम रंजन अनिमेष


रविवार, 28 जनवरी 2018

नारि‍यल


'अखराई' पर इस बार साझा कर रहा हूँ नये कविता संग्रह 'बिना मुुॅँँडेर की छत' से अपनी कविता 'नार‍ियल' 

                   ~  प्रेम रंजन अनिमेष

नारि‍यल        

µ


देख परख कर
बजा कर भली तरह
लाये उसे घर

उसके छिलके काम आये माँजने के

पानी उसका लड़कों ने पिया छक कर

फल तो फल था
सबने बाँट लिया हिल मिल

दो आँखों एक मुँह वाले
उसके खोल का भी बना नपना
चटनी रखने की ढँकनी

कुछ भी जाया नहीं हुआ
सब काम आया चाम से अस्थियों तक

इससे अधिक क्या होगा किसी का
जीना भला सार्थक !